हिन्दी English

यूपी के मुख्यमंत्री योगी सरकार के 30 दिन पूरे हो गये। समाचार माध्यम और जनता 30 दिनों में सरकार द्वारा लिये गये फैसलों की समीक्षा कर रही है। योगी आदित्यनाथ ने 19 मार्च को राज्य के सीएम पद की शपथ ली थी, मंगलवार 18 अप्रैल को योगी सरकार के 30 दिन पूरे हो चुके हैं। जिसके तहत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अब तक कई उपलब्धियों को अपने नाम किया है। उन्होंने इस दौरान ताबड़तोड़ कई फैसले लिए। 

सीएम योगी ने इस दौरान दो दर्जन से ज्यादा फैसले लिए। एक महीने में योगी सरकार ने 2 ही कैबिनेट बैठक ली है, लेकिन आदेश और फैसलों में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है। योगी सरकार के बड़े फैसलों में किसानों के लिए एक लाख की कर्ज माफी, जिला मुख्यालयों में 24 घंटे बिजली देने का फैसला, सभी प्राधिकरणों की जांच, 15 जून तक सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का फैसला, 5 हजार गेहूं खरीद केंद्र बनाने का फैसला, अवैध खनन रोकने के लिए 3 मंत्रियों का समूह गठित करना और हर जिले में एंटी रोमियो दस्ता आदि मुख्यतौर पर शामिल है। योगी के ताबड़तोड़ फैसलों से उनकी एक अलग तरह की छबि उभरकर सामने आयी है। आलोचना करने वालों को जगह नही मिल रही है। इस बीच निजी स्कूलों की मनमानी का मामला जोरशोर से उठा है लेकिन योगी सरकार इस बावत कोई स्पष्ट दिशा निर्देश नही जारी कर पायी है जिसका लोगों को काफी इंतजार है। 

योगी सरकार को 100 में 83 नम्बर

मीडिया दस्तक के साढ़े तीन लाख दर्शकों के बीच कराये गये एक सर्वे में 100 में 89 अंक मिले हैं। नई सरकार के शपथ लेने के बाद जनता के बीच पूदा गया था कि योगी सरकार के अभी तक के कार्यकाल को आप क्या कहेंगे। इसमें चार विकल्प थे। अच्छा, बहुत अच्छा, बिलकुल अच्छा नहीं, हम नही जानते। केवल 16 फीसदी दर्शकों ने योगी के कार्यकाल को बिलकुल अच्छा नही कहा। अच्छा और बहुत अच्छा को जोड़ लें तो कुल 89 अंक होते हैं। जबकि हम नही जानते विकल्प को किसी ने नही चुना है। इस प्रकार यह साफ हो चुका है कि योगी सरकार लोकप्रियता के शिखर पर है।

टिप्पणी

क्रमबद्ध करें

© C2016 - 2020 सर्वाधिकार सुरक्षित Website Security Test