हिन्दी English


नमस्कार,
मैं हूँ पुण्य प्रसून वाजपेयी.. दस्तक में आपका स्वागत है.. (हाथ मसलते हुए)

पांच राज्यों के चुनाव अपने आखरी दौर में है.. कश्मीर में लगातार ऑपरेशन और एनकाउंटर चल रहे हैं.. इन सबके बीच प्रधानमंत्री मोदी पिछले 3 दिनों से वाराणसी में डेरा डाले हुए हैं..

इस दौर में ये पहली बार है जब कोई प्रधानमंत्री इतना खुलकर देश की जनता के बीच मौजूद है.. जिसे लेकर पीएम मोदी पूरे विपक्ष के निशाने पर है.. ज़रा याद कीजिये उस दौर को जब कभी इंदिरा गांधी और राजीव गांधी खुली जीप में जनता के बीच अपनी मौजूदगी दर्ज़ कराते थे और तब कांग्रेस पार्टी उन्हें जननायक के रूप में देश की जनता के सामने पेश करती थी और आज यही कांग्रेस पीएम मोदी के इस तरह सामने आने पर उन्हें कठघरे में खड़ा कर रही है..

दरअसल इस दौर में जब समूचा विपक्ष प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधे हुए हैं वहीं इन सबसे बेपरवाह मोदी अपने तय किये हुए एजेंडे के तहत अपने चुनाव अभियान को अंजाम देने में जुटे हुए हैं.. या यों कहें कि मोदी ने समूचे विपक्ष को ही हाशिये पर डाल दिया है... तो आखिर ये रास्ता जाता किधर है..

पीएम मोदी का अपने संसदीय क्षेत्र में इतना लंबा वक़्त बिताना कहीं इस बात का इशारा तो नहीं कि पूर्वांचल में बीजेपी की स्थिति उतनी मज़बूत नहीं है जितना कि पार्टी दावा करती आई है... लेकिन इन सबके बीच जानकारों का यह भी कहना है कि मोदी जीत के अंतर को बढ़ाने के लिए ही वाराणसी में डेरा डाले हुए हैं...

बहरहाल... ये गीत सुनिये... शायद पीएम मोदी अपने विरोधियों से यही कहना चाहते हैं..

मैं ज़िन्दगी का साथ निभाता चला गया... हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ाता चला गया...

टिप्पणी

क्रमबद्ध करें

© C2016 - 2020 सर्वाधिकार सुरक्षित Website Security Test