हिन्दी English


10 पास करने बाद.....सुनील को उसके बाऊ जी ने इंटर के लिये बनारस के हरिशचन्द्र कालेज में एड्मिशन करवा दिया...लड़का एकदम शरीफ टाइप बालो में तेल लगा चिपकाने वाला...पुरे गर्दन तक शर्ट का बटन बन्द करके रखने वाला....अपने साथ एक अटैची लेकर हास्टल में शिफ्ट हो गया.....मोबाइल तो सादा था...पर जिद करके रंगीन मोबाइल टच स्क्रीन जिसमे इंटरनेट whatsapp, फेसबूक सब चलता था.... जिद करके खरीदवा लिया.....!

अब दोस्तों के मदद से फेसबूक और whatsapp का कहानी शुरू हुआ....सुनील ने एक अकाउंट बनाया फेसबूक पर .....और फ्रेंड रिकवेस्ट का सिलसिला शुरू हो गया....अब नया लड़का खूब दबा के लड़कियो को रिकवेस्ट भेजता....कोई लड़की का पोस्ट होता ""मै कैसी लग रही हूँ.."" तुरन्त कॉमेंट करता...,एकदम सुंदर....nice pic...!

लड़कियो के फोटु ज़ूम करके देखना और चुपके से सेव कर लेना...काम बन गया....अब तक हगते मूतते फेसबुक चलने लगा.....

एक दिन एक कमेंट के रिप्लाय में एक लड़की ने ठंकु बोल दिया....सुनिलवा तुरंते इनबॉक्स में पहुँच गया....बात धीरे धीरे होने लगी... लड़के को पियार होने लगा...अपने खर्चे में से बेचारा उसका फ़ोन रिचार्ज करवाता.... उसके अकाउंट में पैसे जमा करवाता.. फिर एक बड़ा हादसा हुआ...जब दोस्त के मोबाईल में एक बार गलती से देख बैठा की जवान लड़की के अकॉउंट में हम रिचार्ज करवाते है उ अकाउंट का मालिक तो हमरा दोस्त है....

उसका दिल तो चकना चूर होइ गया....इंसानियत पर से भरोसा उठ गया....उस दिन उसने चार-पाँच फेक एंजल प्रिया के नाम से अकॉउंट बनाया और कुछ लड़कों को अपना शिकार बना के अपने साथ हुए धोखे का बदला लिया... अपने फोन में रिचार्ज करवाकर और अपने अकाउंट में पैसे जमा करवा कर ..

सेहत की तो बात ही मत करो.... फेसबुक / whatsaap पर आये MMS और क्लिप देख-देख कर के आँख गाल सब पिचका लिया.....उसके बाऊ जी एक बार कौनो काम से बनारस आय तो सोचे की बचवा से मिल लू....बचवा को देख ले दग रह गए.....सुनिलवा के बाल खड़े हो गए थे....मूड़ी में पहनने वाला माला हाथो में लपेटा चूका था....कॉलर खड़े थे...लड़का पूरा कुल डूड बन गया था...!बाउ जी ने 500 रूपया दिया ले बचवा.....जूस पि लिहे पढ़त पड़त केतना दुबरा गईल बा....बाउजी के जाते ही लड़का उठा अउर एक डब्बा गोल्ड फ्लेक लिया कर....दो सिगरेट का सुट्टा मारा.....!

उसके बाद उसने दो ग्रुप बनाया... फेसबुक / whatsaap पर एक जख्मी दिल के नाम से और एक कट्टर हिन्दू के नाम से.....
अब तो एडमिन बनके सेलिब्रेटी वाली फिलिंग आने लगी....जिस फोटु पर 10 लाइक भी न मिलते थे...अब 100 मिल जाते थे.... पहले जहाँ 2-4 कमेंट आते थे, अब 40-50 हो गये थे ..
एक ग्रुप में लड़कियों के इश्कबाजी होती तो दूसरे में धर्म बचाया जाता....!

कुछ नये लड़के जो गाँव से नये नये उसी की तरह आये थे, उसने अपनी ऑनलाइन सेना में भर्ती कर लिये थे, जो अब उसके शूटर कहलाते थे, मतलब फेसबुक / whatsapp आदि पर कहीं कुछ पंगा, लड़ाई झगडा हो जाये तो एक पुकार पर पूरी सेना तैयार, अगले को जी भर गाली देकर मानते थे ..! उसकी आई डी रिपोर्ट करवा कर, बंद करवा देते थे ...

अब वो फेसबुक का मठाधीश बनने की राह पर अग्रसर था ..

ऐसे पता न कितने सुनिलवा हमारे और आपके बीच है....!😃😃

टिप्पणी

क्रमबद्ध करें

© C2016 - 2020 सर्वाधिकार सुरक्षित Website Security Test