हिन्दी English


गाड़ी ज्ञान...ड्राइविंग इंस्टिट्यूट विशेष....
.
अपनी गाड़ी लेने से पहले चालन का अनुभव लेना अर्थात अच्छे से गाड़ी चलाना सीखना बहुत जरूरी है....अक्सर हम यार दोस्तों या अपने खुद के जुगाड़ के माध्यम से गाड़ी चलाना सीखते हैं...सीखना चाहिए लेकिन इससे गाड़ी चलाने में इतना हाथ साफ़ नहीं होता....क्योंकि कोई बताने वाला नहीं होता कि कब क्या करना है...इन्सान गाड़ी डर डर के चलाता है....कई बार तो ये डर उसके अन्दर घर कर जाते हैं और वो भविष्य में खुद की गाड़ी भी ठीक से नहीं चला पाता......मौक़ा मिले तो किसी भी गाड़ी पर हाथ साफ़ करना बुरा नहीं है लेकिन बेहतर ये रहेगा कि आप एक बार किसी अच्छे रेपुटेड ड्राइविंग इंस्टिट्यूट से भी ड्राइविंग सीखें....जिससे कि आपकी ड्राइविंग में निपुणता आये....
.
बस उसमें ध्यान रखने वाली कुछ बातें हैं.....सीखने के लिए वैसी ही गाड़ी चुने जिस साइज़,पावर या मॉडल की गाड़ी आप अपने लिए खुद की चाहते हैं......ऐसा इंस्टिट्यूट चुनें जिसके पास हर वैरायटी की गाड़ी हो.....महँगा हो जिसके कारण वहाँ सीखने के लिए कम लोग आते हैं.....ऐसे में आपको वहाँ पर्याप्त समय भी दिया जाएगा....अच्छी कंडीशन की गाड़ी मिलेगी....खटारे में सीख के क्या फायदा.... सीखते हुए भी मूड खराब.....सस्ते इंस्टिट्यूट के चक्कर में पड़ोगे तो भैय्या उसे तो दो दो मिनट में ट्रेनी निपटाने होते हैं..पांच मिनट में ही गाड़ी बोलने लगती है कि उतर जाओ अब दूसरा चलाएगा.....ऐसे में ड्राइविंग में दक्षता नहीं आ पाती....ना ही आप गाड़ी के सभी पार्ट्स,उनकी कार्यप्रणाली एवं इस्तेमाल करने के सही तरीके को जान पाते हैं.....महंगे इंस्टिट्यूट में आपको ड्राइविंग की एक एक डिटेल के बारे में विस्तृत जानकारी मिलती है..साथ ही सुरक्षित ड्राइविंग के तरीके भी सिखाये जाते हैं....समय लगाकर सीखी हुई चीज इंसान कभी नहीं भूलता....आजकल ऐसे भी इंस्टिट्यूट खुल गये हैं जहाँ एक गाड़ी एक्सक्लूसिवली एक ही ड्राईवर को दी जाती है.....सबसे बेहतर इंस्टिट्यूट यही होते हैं....हाँ जेब थोड़ी ज्यादा ढीली करनी पड़ती है लेकिन अपने भविष्य के सुखद ड्राइविंग-जीवन के लिए इतनी कुर्बानी तो देनी ही होगी....
.
नव चालकों के हितार्थ #मिस्त्री_पाठशाला से निशुल्क जारी...

टिप्पणी

क्रमबद्ध करें

© C2016 - 2020 सर्वाधिकार सुरक्षित Website Security Test